Some Words On Steve Jobs By Sandeep Maheshwari

sandeep-maheshri-speech-on-steve-jobs

अगर बिज़नस में आपको सक्सेस भी होना है पैसे भी कमाना है, खुश भी होना है. तो आपको यह समझना है कि कुछ ऐसा करना है की अन्दर की चीजो में भी ध्यान देना है. बिज़नस में मेरा आइडल स्टीव जॉब्स रहा है. उनका मेने पढ़ा मतलब वो उस प्रकार के इन्शान थे कि वो सिर्फ बहार से डिजाईन पर काम नहीं करते थे.

लोग होते है शॉर्टकट मारते है कि बहार से डिजाईन बनाया और चेप दिया किसी को भी उठा कर के.

वो उस प्रकार के इन्शान थे कि अन्दर जो सर्किट का डिजाईन होता था. उसमे भी इतना अन्दर तक जाते थे. मतलब एक-एक साल दो-दो साल लगा देते थे सिर्फ अन्दर के सर्किट को डिजाईन करने में कि वो अच्छा लगे.

उनकी कंपनी में लोग बोलते थे “सर ये तो किसी को खोलना भी नहीं है जिंदगी में भी सर्किट को, ये तो हमारे उन लोगो को देखना है जो मोबाइल को बनाते है.

एक साधारण आदमी जो मैक उपयोग कर रहा है, आईफ़ोन उपयोग कर रहा है उसको थोड़ी पता है कि अन्दर का सर्किट कितना सुन्दर है: तो स्टीव जॉब्स के अन्दर वो होता था की नहीं भाई कोई नहीं देख रहा में तो देख रहा हु.

तो अंत में वो क्या कर रहे है अपने पैसे को, अपने समय को सब नाली में बहा दिया.

लेकिन वो पूरी दिनिया के सबसे बड़े कामयाब entrepreneur/Marketer (व्यवसायी) बने. और इतिहास में स्टीव जॉब्स जैसा आज तक पूरी दुनिया में कोई नहीं है, और मुझे नहीं पता आगे भी कोई आएगा या नहीं उस लेवल का.

मतलब वो उस हद तक चले जाते थे चीजो को करने में कि जो नहीं दिख रहा है किसी को भी लेकिन मुझे दिख रहा है तो में कुछ भी कर दूंगा.

मतलब उन्होंने करोड़ो-अरबो रूपए, अहह.. करोड़ो बहुत छोटा शब्द है. अरबो-खरबों रूपए बहा दिए ऐसी चीजे करने में कि आज तक आपको, मेरे को या किसी यूजर को पता भी नहीं है कि उन्होंने अन्दर क्या किया हुआ है.

और जिससे कोई फर्क भी नहीं पड़ता. अगर वो उसको नहीं भी करते उसकी डिजाइनिंग में, अन्दर की डिजाइनिंग में दिमाग नहीं भी लगते बहार की डिजाईन में ही दिमाग लगते तब भी वो आईफ़ोन उतना ही बिकता, जितना आज बिक रहा है.

लेकिन उसके वजह से क्या हुआ उनकी टीम को दिखा अन्दर से उनको खुद को दिखा. तो जिस यक़ीन की, जिस विश्वास की जो मैंने बात करी है बार-बार वो इतना मजबूत हुआ कि उनके चेहरे पे आया कि मैं अंत में इस दुनिया का सबसे अच्छा प्रोडक्ट दे रहा हूँ. और जैसे ही वो फीलिंग्स (भावना) आई, वो फीलिंग्स अंत में लोगो को तक पहुची. उनको बताने की जरुरत भी नहीं थी.

5 Comments

  1. Name zeeshan salmani March 3, 2016
  2. Aliza D'cruz November 15, 2015
    • Girish December 18, 2015
  3. Aliza D'cruz November 15, 2015
  4. Veena August 21, 2015

Leave a Reply