जिंदगी का सच – कविता

truth-of-life-hindi-poem-on-life

Hindi Poem On Life: यह जिंदगी के सच पर एक कविता है, जिंदगी के सच को बहुत बहतरीन तरीके से उजागर किया गया हैं| उम्मीद है यह कविता आपको पसंद आएगी|

जिंदगी का सच (Hindi Life Poem)

यह हैं जिंदगी का सच,
जो चाहा कभी पाया नहीं|

जो पाया कभी सोचा नहीं,
जो सोचा कभी मिला नहीं|

जो मिला रास आया नहीं,
जो खोया वो याद आता हैं,
पर जो पाया संभाला जाता नहीं|

क्यों अजीब भी पहली हैं जिंदगी,
जिसको कोई सुल्जा पता नहीं|

जीवन में कभी समजोता करना पड़े तो कोई बड़ी बात नहीं हैं,
क्योंकि जुकता वही हैं जिसमे जान होती हैं,
अकाद तो मुर्दे की पहचान होती हैं|

जिंदगी जीने के 2 तरीके होते है,
पहला: जो पसंद है उसे हासिल करना सिख लो,
दूसरा: जो हासिल हैं उसे पसंद करना सिख लो|

जिंदगी जीना आसान नहीं होता,
बिना संगर्ष कोई महान नहीं होता|

जब तक न पढ़े हथोड़े की चोट,
पत्थर भी भगवन नहीं होता|

जिंदगी बहुत कुछ सिखाती हैं,
कभी हंसती है तो कभी रुलाती हैं|

पर जो हर हाल में खुस रहते है,
जिंदगी उनके आगे सर जुकती हैं|

चेहरे की हंसी से हर गम चुराओ,
बहुत कुछ बोलो पर कुछ न छुपाओ|

खुद न रूठो कभी पर सब को मनाओ,
राज़ हैं ये जिंदगी का बस जीते चले जाओ|

यही हैं जिंदगी का सच|

अगर यह (Life poem in Hindi) कविता आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ social profile से जरुर share करे और अपने दोस्तों को भी बताए यह जिंदगी का सच|

4 Comments

  1. Akhilesh kumar December 21, 2016
  2. Kratika purohit December 3, 2016
  3. hilli July 2, 2016

Leave a Reply