Internet (Blog) से घर बैठे पैसे कैसे कमाए A to Z Guide सब कुछ

blog-paise-kamaye

मुझे blog पर कमेंट से कई लोग पूछते रहते है कि blog kaise banaye, internet se paise kaise kamaye और इसके साथ मेरे फ्रेंड सर्किल में ही मुझे कई बार सवाल कर देते है कि blogging को कैसे शुरू कि जाती है, ghar baithe paisa kaise kamaye. तो इन सबके जवाब मैंने इस पोस्ट में दे दिए है.

img59

यह पोस्ट बहुत बड़ी है, अगर आपके पास समय कम है तो इसे अपने ब्राउज़र में बुकमार्क कर ले.

आज के वक्त में internet से कई user बहुत अच्छा पैसा कमा रहे है. और हर रोज न जाने कितने यूजर paisa kamana शुरू कर रहे है. वे बस अपनी कला को internet पर दिखाते है जिन्हें लोग देखते है, इस दौरान कला दिखने वाला कई तरीको से अपने दर्शक से पैसा कमा लेता है.

अगर हम बात करे blogging की जो अभी ही के कुछ सालो में भारत में काफी तेज़ी से बढ़ रही है और कई लोग मेरी नजरो में है जिन्होंने blogging कि वजह से अपनी कीमती और अच्छी सैलरी वाली जॉब भी छोड़ दी है.

Blogging एक इंजीनियरिंग, डॉक्टर की तरह ही एक फील्ड है, जिसमे मास्टरिंग करने वाले को blogger कहते है, जो एक blog पर काम करता है. सच माईने में वो हर व्यक्ति blogger है जो internet पर किसी न किसी के बारे में ज्ञान, सूचना आदि विडियो, टेक्स्ट, बुक में share करता है. और लोगो के साथ में जुड़ कर उनकी मदद करता है.

जिसके साथ में वह blogger अपने साथ जुड़े लोगो को अपना सेल्फ प्रोडक्ट बेच देता है, दुसरे कंपनी जैसे अमेज़न, फ्लिप्कार्ट आदि के प्रोडक्ट बेच कर कमीशन कमा लेता है, advertise (विज्ञापन) कर लेता है या कोई सर्विस देकर पैसा कमा लेता है.

मैं जनता हूँ कई लोगो के सवाल यही होगे कि यह वाकई में किया जा सकता है या बस केवल 2 दिन कि कमाई है. अगर में एक ही लाइन में समझाऊ तो कहूँगा कि अगर आपके पास में कुछ ऐसा है जो और लोगो के पास नहीं है, वो एक सीक्रेट, हट कर ज्ञान या तकनीक हो सकती है. अगर आपको किसी सब्जेक्ट पर बहुत अच्छा ज्ञान है या आप कुछ ऐसा का सकते हो जिससे कि internet यूजर attract हो तो आपके लिए पैसा कमाना कोई ज्यादा कठिन नहीं होगा.

मैंने इस पोस्ट में A to Z वो सब share कर दिया है जिसे पढ़ कर हर वो व्यक्ति अपने blogging करियर कि शुरुआत कर सकता है जिसे लगन हो बस रास्ता दिखने वाले चाहिए.

इस पोस्ट में मैंने सब पॉइंट क्लियर कर दिए है जो एक blogging में आये नए बन्दे में दिमाग में होते है, मुझे शायद ही ऐसा लगता है की इस पोस्ट को ढंग से पढ़ लेने के बाद आप अपना करियर blogging में नहीं बना पाओगे.

चलिए इस पोस्ट को शुरू करते है, निचे लिखे इन सब टॉपिक को में step by step कवर करुगा.

मैंने केवल इस पोस्ट के लिए यह सुविधा रखी है कि अगर कोई भी कमेंट से सवाल पूछता है तो उसका रिप्लाई में रिरेक्ट पर्सनल ईमेल ID पर दूंगा.

  1. अपने blog का पॉइंट खोजे
  2. अपना blogging प्लेटफार्म तय करे
  3. Google blog पर अपना blog कैसे बनाये?
  4. पहली पोस्ट लिख कर पब्लिश करनी सीखे
  5. बढ़िया थीम/टेम्पलेट लगाये और डिजाईन करे
  6. अच्छा पोस्ट लिखे, ताकि लोग उसे पढ़े
  7. डोमेन

चैप्टर 1: अपने blog का पॉइंट खोजे

सुनने में इतनी बड़ी बात नहीं है, पर इसके बिना blog को आगे ले जाना मुस्किल है.

आपको पहले यह पता लगाना होगा कि आपको blog को किस टॉपिक पर करना है.

हां..!! जल्दी बाजी में blog बना देना, थीम और कलर चुन कर पोस्ट डालनी शुरू करना काफी आसन है, पर यह जरुरी पार्ट नहीं है.

सबसे जरुरी बात है आपके blog का टॉपिक. कि आपको blog किस टॉपिक पर करना है.

  • जैसे hindisoch.com का टॉपिक है motivational और life style.
  • shoutmehindi.in का टॉपिक है blogging के बारे में सब कुछ.
  • nirogikaya.com का टॉपिक है health (स्वास्थ्य) के बारे में सब कुछ.
  • hindispot.com का टॉपिक है हर तरह के पोस्ट/कंटेंट हिंदी में (Everything in Hindi Language).

उसी तरह आपको भी अपने blog का कोई टॉपिक देखना होगा.

1. क्या कुछ ऐसा है जिसमे आपको मज़ा आता हो?

यह पहला सवाल है जो आपको करना है.

आप जो भी टॉपिक तय करो उसमे आपको मज़ा आना चाहिए, जो टॉपिक आपको पसंद नहीं है उसको करने के लिए आपको कोई भी फाॅर्स नहीं कर रहा. कोई ऐसा टॉपिक चुने जिस पर काम करने में एनर्जी बने रहे, एक उत्साहक (excitement) बना रहे.

ऐसा करना इसलिए जरुरी है: आपको उस टॉपिक पर बहुत मेहनत से काम करना होगा, और यह बिना मन से नहीं किया जा सकता.

आपको कुछ ऐसा टॉपिक नहीं करना है जिसमे जिसमे आपको काम करते वक्त अपने आप को धक्का देना पड़े (फोर्स करना पड़े). आपको कुछ ऐसा टॉपिक चुनना होगा जिसमे आपको इंटरेस्ट हो मज़ा हो.

जो भी टॉपिक आप तय करते हो जिसमे आपको मज़ा आता है इसका मतलब यह नहीं हुआ कि उसमे हर काम में मज़ा होगा, हो सकता है blog कि डिजाईन और इमेज एडिटिंग वगेरा करना आपको पसंद न हो पर ये करना जरुरी होता है.

2. क्या कुछ ऐसा है जिसमे आपको Experience (अनुभव) है?

मज़े के साथ में आपको उस टॉपिक में ज्ञान आर अनुभव भी होना चाहिए.

आपको अपने टॉपिक में बहुत गहराई में उतरना है, उसके बारे में सब कुछ पता करना है. अगर आपको नॉलेज नहीं उस टॉपिक पर जो अपने चुना है तो आपके लिए blogging बोरिंग होती जाएगी और ऐसे ही एक दिन blogging को छोड़ डोंगे (जो blogging छोड़ने का सबसे बड़ा कारण है).

तो क्या इसका मतलब यह है कि आपको अपने चुने हुए टॉपिक पर दुनिया का सबसे ज्यादा नॉलेज होना चाहिए?

बेशक नहीं.

Trent Hamm का एक ही एक उदहारण देता हूँ, एक साधारण व्यक्ति.

img01

Tren Hamm ने अपने अनुभव का टॉपिक budgeting पर blog शुरू किया, क्योंकि Trent Hamm को फाइनेंसियल समस्या के बारे में अच्छा अनुभव है.

उन्होंने अपने फाइनेंसियल से जुडी कहानी को दुनिया के सामने शेर करने का निर्णय लिया.

क्या वो एक प्रोफेशनल व्यक्ति था?

नहीं.

यहाँ तक कि फाइनेंसियल मैं वो खुद बरबाद हुआ था.

तो उन्होंने क्या किया? उनको बड़े कर्ज से निकलने का अनुभव हो गया. और उस अनुभव पर एक blog शुरू कर दिया.

रिजल्ट क्या मिला?

आज के वक्त में वो पर्सनल फाइनेंसियल टॉपिक पर दुनिया का जाना माना blog है.

  1. महीने के 10 लाख विजिटर
  2. Kiplinger के अनुसार यह blog दुनिया के टॉप 10 पर्सनल फाइनेंसियल blog है.
  3. technorati के द्वारा टॉप 20 रेटिंग.
  4. Chicago Tribune से टॉप mention.
  5. Forbes, Guardian, Business Insider, Time, Inc., MSN Money मैं बयान हुआ.

img02

तो अंत में मेरा पॉइंट क्या है?

आपको अपने टॉपिक पर बहुत ज्यादा ज्ञान होना जरुरी नहीं है.

आपको अपने टॉपिक के बारे में सिखने के लिए हमेशा तैयार रहना होगा, और अपने टॉपिक पर हो सके उतनी सुचना और ज्ञान बढ़ाना होगा.

आपको अपने टॉपिक पर जितना experience होगा, उतना ही अच्छा है.

पर ऐसा जरुरी ही नहीं है कि आप blog वेबसाइट से ही शुरू करे, आप YouTube विडियो blog भी शुरू कर सकते है.

उदहारण के लिए Sandeep Maheshwari एक फोटोग्राफर है, जिनको फोटोग्राफर बनने में बहुत तकलीक हुई, बहुत संगर्ष किया. जिंदगी में मुस्किल से मुस्किल काम को कैसे करना यह इनको आ गया.

img04

तो फिर?

इन्होने अपनी जिदंगी के सारे experience, कहा वो अटके, रुके, फ़ैल हुए, सक्सेस हुए सब कुछ YouTube विडियो blog पर शेयर कर दिया.

img58

  • और नतीज़ा यह मिला कि आज उनके YouTube चैनल पर 5 लाख से भी ज्यादा सब्सक्राइबर है.
  • उनकी सबसे पोपुलर विडियो पर 40 लाख व्यूज हो गए.
  • इसके साथ में सोशल मीडिया में भी काफी फोल्लोवेर्स हो गए: फेसबुक पर 10 लाख likes हो गए.

पॉइंट यह है, कि अगर आपको लिखने में इतना इंटरेस्ट नहीं है, या मज़ा नहीं आता है तो YouTube पर भी अपना चैनल करके एक विडियो blog शुरू कर सकते है.

3. क्या आपका टॉपिक दुसरो के लिए भी दिलचस्प है?

ज्यादातर इसका जवाब हां ही होता है.

लोगो को हर तरह के टॉपिक पसंद है, इस दुनिया में हर तरह के लोग है जो किसी न किसी टॉपिक को पसंद करते है, जैसे कि मैगज़ीन.

img03

इस दुनिया में न जाने कितने टॉपिक पर मैगज़ीन पब्लिश हो चुकी है, हर इन्सान अपने पसंद कि मैगज़ीन खरीद कर उसे पढता है.

यह माइने नहीं रखता कि आपका टॉपिक क्या है, आपको उस टॉपिक को पसंद करने वाले लोग मिल ही जाएगे.

4. क्या वो एक माइक्रो टॉपिक है?

तो आप अपने blog के टॉपिक को पसंद करते है और लोग भी.

पर आपका टॉपिक कितना माइक्रो (छोटा) है?

यह बहुत जरुरी है, क्योंकि अगर आपका टॉपिक बहुत विशाल तरीके से फैला है तो आपको अपने blog के लिए इंटरेस्ट वाले लोग मिलन कठिन होगा.

उदहारण के लिए आपने एक कारपेंट्री पर blog शुरू किया, आपको कारपेंट्री पसंद है और आप उस पर blog कर रहे है.

जरा एक सेकंड रुक कर सोचे.

कारपेंट्री एक बहुत विशाल टॉपिक है.

किस तरह कि कारपेंट्री? ट्रिम कारपेंट्री, समुन्द्र जहाज की कारपेंट्री, बनावट की कारपेंट्री, फर्नीचर कारपेंट्री, मरम्मत वाली कारपेंट्री आदि?

आपको अपने टॉपिक से एक छोटा भाग लेना होगा, यदि आपको अपने follower एक निश्चित टॉपिक पसंद करने वाले चाहिए तो.

5. क्या आपके टॉपिक में सागर जितना भर सकते है?

आपका टॉपिक माइक्रो-टॉपिक भी होना चाहिए, और उसमे बहुत कुछ शेयर करे जितना भी होना चाहिए.

आपके टॉपिक पर discuss करने को बहुत बाते होने चाहिए, जिस पर सालो तक कुछ न कुछ शेयर कर सको.

उदहारण के लिए HindiSpot, जिसका टॉपिक है Everything in Hindi Language यानी बायोग्राफी, स्टोरी, कोट्स, टेक्नोलॉजी, एंटरटेनमेंट सब कुछ हिंदी में, जिस पर में आने वाले कितने ही वर्ष तक लिख सकता हूँ और समय के साथ-साथ और भी टॉपिक जोड़ सकता हूँ जैसे टेक्नोलॉजी टॉपिक मैंने अभी ही शुरू किया और आने वाले वक्त में मैं हेल्थ का टॉपिक भी जोड़ने वाला हूँ, और इस तरह से इसका कोई अंत नहीं है.

पॉइंट यह है कि ऐसा टॉपिक न ले, जिसमे कुछ महीनो बाद आपके पास share करने को कुछ न रहे.

तो एक बार फिर से सब दोहराते है, कोई भी टॉपिक चुनने के लिए आपको अपने आप से निचे लिखे 5 सवाल करने होगे.

  1. क्या कुछ ऐसा है जिसमे आपको मज़ा आता हो?
  2. क्या कुछ ऐसा है जिसमे आपको Experience (अनुभव) है?
  3. क्या आपका टॉपिक दुसरो के लिए भी दिलचस्प है?
  4. क्या वो एक माइक्रो टॉपिक है?
  5. क्या आपके टॉपिक पर सागर जितना भर सकते है?

क्या कुछ रह गया? I think सब कुछ क्लियर हो गया.

अब?

अब आपको अपने टॉपिक पर कुछ रिसर्च करनी होगी.

Topic रिसर्च करे

सबसे पहले तो यह देखे कि उस टॉपिक के बारे में लोग Google सर्च इंजन पर क्या-क्या रिसर्च कर रहे है.

जिसके लिए keywordtool.io पर जाये, अपने चुने हुए टॉपिक का कीवर्ड टाइप करके सर्च करे, जैसे यदि आपका टॉपिक Hindi Motivational Stories है तो कुछ इस तरह सर्च करे.

img62

 

कुछ इस तरह रिजल्ट प्रदशित होगा, जिसमे आप देख सकते है कि लोग आपके टॉपिक से रिलेटेड क्या-क्या रिसर्च कर रहे है.

img63

फिर google.com पर जाये, और अपना वही टॉपिक सर्च करे, आपको उससे रिलेटेड कीवर्ड और आईडिया यहाँ से भी मिलेगे.

img64

अब देखते है आपके टॉपिक पर और कितने blog पहले से है.

जैसे आपने Hindi Motivational Stories का टॉपिक चुना. तो पहले Google पर इस बारे में सर्च करके यह देखा जा सकता है कि इसी टॉपिक पर पहले से कितने blog already बने पड़े है.

img05

ऊपर स्क्रीन शॉट में देख सकते है कि पहला, दूसरा और तीसरा तीनो ही रिजल्ट पर एक ही blog है hindisoch.com, जिसका मतलब है यह आपका सबसे बड़ा competitor है.

और इसके बाद मे: happyhindi.com, achhikhabar.com etc. blog आपके competitor होगे.

रिसर्च करने के लिए इन सब blog को खोलिए और जानिए कैसे ये सब blogger अपने blog पर काम करते है.

उनसे कांटेक्ट करने की कोशिश कीजिये. और दोस्त बनाने की कोशिश करे.

शुरू में यह इतना आसन नहीं होगा. क्योंकि हर कोई blogger अपने blog की डिटेल या सक्सेस के सीक्रेट हर किसी के साथ में ऐसे ही शेयर नहीं करता है.

लेकिन कई लोग ऐसे भी होते है जो हेल्प करते है.

इससे होगा यह कि आप अपने competitors के बारे में जान सकेगे.

हम जिस टॉपिक पर blog बनाते है तब हमें यह भी पता होना चाहिए कि उसी टॉपिक पर और कितने blog इन्टरनेट पर फेमस है.

जिस तरह जब कोई भी दुकानदार अपनी दुकान को खोलता है, तो अपने गाव या शहर में यह पता करता है कि वैसी ही और कितनी दुकान है, वह कितनी चलती है और कितना कमाती है, उस दुकान का सामान कहा से आता है और उस दुकान का मालिक कैसे मार्केटिंग करता है.

चैप्टर 2: अपना blogging प्लेटफार्म तय करे

आखिर में blog का टॉपिक decide हो जाने के बाद में blog को कई तरीको से बना सकते है. blog बनाने की दो सर्विस WordPress और Google Blogger टॉप पर है, ये दोनों सॉफ्टवेर है जहा से blog को बनाया जाता है.

यह दोनों ही प्लेटफार्म अपनी-अपनी नजर में सही है.

जो सिखने के मकसद से blog को शुरू करता है या एक नया blogger होता है तो वो अपना blog ज्यादातर Google blogger पर ही शुरू करता है.

Google Blogger (Blogspot) Vs वर्डप्रेस

Google blogger blogging प्लेटफार्म को पहले के टाइम में blogspot के नाम से जाना जाता था. और यह Google की सबसे अच्छी सर्विस में से एक है.

जब कोई भी व्यक्ति अपना लाइफ का पहला blog स्टार्ट करता है तो वो Google blogger को चुनता है.

और कुछ वक्त के बाद मे जब अच्छा सा कंटेंट मैनेजमेंट सिस्टम का नॉलेज हो जाता है तो वर्डप्रेस पर आ जाता है.

वर्डप्रेस और Google blogger दोनों को blogging प्लेटफार्म और CMS (Content Management System) भी कहते है.

और इन दोनों में से अच्छा और एडवांस कंटेंट मैनेजमेंट सिस्टम वर्डप्रेस है और Google blog प्लेटफार्म बहुत ही आसान है. इसलिए कोई भी नया blog होगा वो अपना लाइफ का पहला blog Google blogger प्लेटफार्म पर ही बनाएगा.

CMS को सिखने में सबसे पहले Google blogger को उपयोग करने में लेना आपके लिए भी बहतर होगा.

तो दोनों की कोम्परिंग में, आपके के लिए में Google blog को उपयोग करने की सलाह देता हूँ और अपना वोट Google blogger को ही देता हूँ.

और जब blog, Google blogger पर होता है तब कभी भी चाहो तो उस blog को बिना कोई भी आइटम को खोये वर्डप्रेस पर ट्रान्सफर कर सकते है (माइग्रेट कर सकते है).

तो चलिए अब अपना एक Google blog पर blog बनाते है.

चैप्टर 3: Google blog पर अपना blog कैसे बनाये?

blog पर blog बनाने के लिए सबसे पहले अपने कंप्यूटर या लैपटॉप में इन्टरनेट ब्राउज़र ओपन करे और उसमें www.blogger.com एड्रेस पर जाये.

यदि अगर आपके ब्राउज़र में Google अकाउंट पहले से ही लॉग इन नहीं है तो फिर आपके सामने एक वेब पेज ओपन होगा जिसमे आपको अपना Google अकाउंट (जीमेल अकाउंट) लॉग इन करना है.

img06

यदि आप पहली बार www.blogger.com में एंटर हो रहे हो तो आपके सामने 2 आप्शन प्रदशित होगे, जिसमे आपको दोनों में से एक प्रोफाइल सेलेक्ट करनी होती है.

तो अभी आप Google plus प्रोफाइल को सेलेक्ट करेगे “Create a Google+ profile” बटन क्लिक करके.

img07

फिर आपको Google plus में प्रोफाइल बनानी होती है.

अपनी डिटेल डाल कर “Upgrade” बटन पर क्लिक करे. जिसके बाद में एक पॉपअप आयेगा जिसमे “Process anyway” पर क्लिक करना है.

img08

उसके बाद “Finish” बटन पर क्लिक करना है, फिर एक पॉपअप आयेगा जिसमे “Continue anyway” पर क्लिक करना है.

img09

Google प्लस पर प्रोफाइल बन जाने के बाद में Google blog पर आ जाओगे.

जहा पर blog बनाने के लिए “New Blog” पर क्लिक करना है.

img10

फिर यह पॉपअप सामने आयेगा जिसमे अपने blog को बनाने के लिए इनफार्मेशन भरनी होती है.

जिसमे blog का टाइटल, blog का एड्रेस, और blog की टेम्पलेट/थीम को decide किया जाता है.

फिर “Create blog!” बटन पर क्लिक करना है.

img11

Congratulation..!! अब आपका blog बन गया है, अपने ब्राउज़र के एड्रेस-बार में blog का एड्रेस डाल कर ओपन कर सकते है.

जब blog बन जाता है तब उस blog का डैशबोर्ड आटोमेटिक ओपन हो जाता है.

डैशबोर्ड: blog को मैनेज करने के लिए एक सॉफ्टवेर, एक तरह का टूल जहा से blog की डिजाईन, कंटेंट आदि सब मैनेज होते है.

जब किसी भी blog का Google blogger डैशबोर्ड इस तरह से दिखाई देता है.

img12

blog बनाने के जस्ट बाद तो यह डैशबोर्ड ओपन हो जाता है, लेकिनो इसी डैशबोर्ड को खुद ही ओपन करना है तो पहले blogger.com पर जाकर उसी Google अकाउंट पर लॉग इन रहे जिस अकाउंट से आपने blog बनाया था. और आपके सामने उन सब blog की लिस्ट होगी जो blog आप अपने अकाउंट में अब बना चुके है. (एक Google अकाउंट में 100 blog ही बना सकते है.)

img13

इस blog की लिस्ट में से जिस पर क्लिक करेगे उस blog का डैशबोर्ड ओपन हो जायेगा.

चैप्टर 4: पहली पोस्ट लिख कर पब्लिश करनी सीखे

सबसे पहले उस blog का डैशबोर्ड ओपन करे जिस blog पर पोस्ट लिखना चाहते है. डैशबोर्ड में लेफ्ट-साइड में आप्शन होते है, उस में सबसे ऊपर बटन “New post” पर क्लिक करे.

img14

फिर आपके सामने एक blog पोस्ट एडिटर ओपन होगा, जो बिलकुल माइक्रोसॉफ्ट वर्ड की तरह दिखाई देगा.

img15

इन में से कुछ main options को में introduce स्क्रीन शॉट में ही कर लेता हूँ.

निचे दिए स्क्रीन शॉट को अच्छी तरह से देखे, इसमें हर टूल का क्या उपयोग है बताया गया है.

img16

Google blog के पोस्ट एडिटर में आप जो भी कंटेंट लिखते है वो ऑटो सेव होता चला जाता है, यह ड्राफ्ट फोल्डर में सेव हो जाता है.

आटोमेटिक के अलावा खुद भी पोस्ट को सेव कर सकते है, जिसके लिए केवल “Save” बटन पर क्लिक करे.

img17

और पब्लिश करने से पहले अगर एक बार उस पोस्ट को लाइव प्रीव्यू देखना चाहते हो तो “Preview” बटन पर क्लिक करके देख सकते है, जिसके बाद एक नई विंडो ओपन होगी जिसमे वो पोस्ट लाइव दिखेगी.

img18

और वह लाइव प्रीव्यू कुछ इस तरह से दिखाई देगा.

img19

फिर जब पोस्ट पूरा पब्लिश होने के लिए रेडी होता है तब “Publish” बटन पर क्लिक करके कर सकते है.

img20

Note: जब blog पर पोस्ट पब्लिश होती है तब पोस्ट को Google प्लस प्रोफाइल पर शेयर करने का आप्शन (पॉपअप) आता है, जो आप पर निर्भर है उसे शेयर करना या नहीं, लेकिन अगर आप सिखने के लिए ये सब कर रहे है तब Google प्लस पर शेयर न करे, शेयर नहीं करने के लिए उस “Cancel” पर क्लिक कर दे.

img21

पब्लिश करने के बाद आपके सामने फिर से blog का डैशबोर्ड ओपन होगा, जहा पर पोस्ट का सेक्शन दिखेगा.

जहा पब्लिश और ड्राफ्ट की हुई सारी पोस्ट show होगी.

img22

वहा से आप किसी भी पोस्ट को “view” पर क्लिक करके देख सकते है कि पब्लिक में कैसे हो रहा है.

img23

view पर क्लिक करने के बाद में आपके सामने कुछ इस तरह नई tab में पेज ओपन होगा जो अपने पोस्ट एडिटर में लिखा है.

img24

चलो तो यह था कैसे Google blog पर पोस्ट लिख कर पब्लिश करते है? और उसे blog पर view करते है.

चैप्टर 5: बढ़िया थीम/टेम्पलेट लगाये और डिजाईन करे

वैसे तो डिजाइनिंग के लिए वेब डिजाइनिंग सीखनी होती है, जिसमे HTML, CSS, JS, PHP आदि लैंग्वेज को सीखना होता है.

इन सब लैंग्वेज को सिखने के बाद में कोई भी व्यक्ति वेब डिज़ाइनर कहलाता है.

लेकिन जब बात करे Google blog प्लेटफार्म की, तब इस प्लेटफार्म में डिजाइनिंग के लिए वेब डिजाइनिंग की लैंग्वेज HTML, CSS, JS, PHP आदि लैंग्वेज का आना जरुरी नहीं है.

और वैसे अगर कोई वेब डिज़ाइनर Google blog प्लेटफार्म का इस्तेमाल करे तो वह इन वेब डिजाइनिंग लैंग्वेज से भी अपने blog को डिजाईन कर सकता है, यानी Google blog पर 2 तरीको से blog की डिजाईन कर सकते है.

तो चलिए में आपको बताता हूँ बिना वेब डिजाइनिंग को जाने भी कैसे blog की डिजाइनिंग करते है.

थीम/टेम्पलेट लगाये

जब Google blog प्लेटफार्म को ओपन करते है, तब उसके लेफ्ट-साइड में आप्शन होते है, जिसमे एक “Template” का आप्शन होगा.

img26

जब टेम्पलेट सेक्शन में एंटर होगे तो उसमे आप कोनसा टेम्पलेट use कर रहे है वो दिखाई देगा, और देख सकते है कि वही टेम्पलेट कंप्यूटर और मोबाइल दोनों डिवाइस में कैसा दीखता है.

img27

तो चलिए पहले एक कोई टेम्पलेट चुनते है फिर उसे कस्टमाइज/एडिट/डिजाईन/मॉडिफिकेशन करते है.

Google blog की तरफ से कई टेम्पलेट प्रोवाइड है, जिसमे कोई भी टेम्पलेट फ्री में अपने blog पर अप्लाई कर सकते है.

ये सब टेम्पलेट, टेम्पलेट वाले सेक्शन के अन्दर ही निचे की तरह स्क्रॉल करके देख सकते है.

img28

और इन में से कोई भी टेम्पलेट को अपने blog पर अप्लाई करने के लिए उस पर क्लिक करे.

क्लिक करने के बाद में एक पॉपअप/बॉक्स ओपन होगा, और बताएगा की इस टेम्पलेट में आपका blog कुछ इस तरह से दिखेगा.

img29

और जब उस टेम्पलेट को अप्लाई करना है तो “Apply to Blog” पर क्लिक करे.

img30

Apply to Blog पर क्लिक करते ही आपके blog पर वह टेम्पलेट अप्लाई हो जाएगा, “View blog” पर क्लिक करके देख सकते है.

img31

टेम्पलेट/थीम एडिट करे

अपने blog के टेम्पलेट सेक्शन में blog का लाइव लुक का thumbnail फोटो के निचे“Customize” पर क्लिक करे.

img32

“Customize” पर क्लिक करने के बाद में इस तरह से blog को कस्टमाइज करने के आप्शन आयेगा.

जिसमे देख सकते है, ऊपर वाला पार्ट पूरा कस्टमाइज करने का टूल/आप्शन है और निचे उसका लाइव प्रीव्यू, जिसे लाइव देख कर पता लगा सकते है की blog पर वह लुक कैसा लग रहा है.

img33

तो चलिए टूल का उपयोग समझते है.

1. Template (टेम्पलेट)

टूल में सबसे पहला आप्शन है “Template” का. जिसे अपने blog का टेम्पलेट बदल सकते है, लेकिन blog का टेम्प्लेट हमें बदलना नहीं है क्योंकि वो हम कर चुके है.

img34

लेकिन यहाँ पर इस आप्शन का देने का यह है कि यही से टेम्पलेट को बदल कर सीधा एडिट करना शुरू हो सकते है.

तो टेम्प्लेट वाले आप्शन से हम कोई भी अपना टेम्पलेट नहीं बदलेगे.

2. Background (बैकग्राउंड)

दूसरा आप्शन है “Background”, जिसमे अपने blog के बैकग्राउंड फोटो, बैकग्राउंड कलर, बैकग्राउंड पैटर्न आदि को लगा सकते है.

img34

बैकग्राउंड इमेज/फोटो बदलने के लिए “Background image” पर क्लिक करे.

img35

फिर आपके सामने कुछ इस तरह से एक बॉक्स ओपन होगा जहा देख सकते है हर तरह की केटेगरी में बहुत सारे बैकग्राउंड इमेज है.img36

इन में से जो बैकग्राउंड इमेज पसंद आये उस पर क्लिक करके सेलेक्ट करे और फिर “Done” पर क्लिक करे.

img37

और अगर आपके पास खुद की कोई ऐसी इमेज है जिसे बैकग्राउंड में सेट करना चाहते है तो “Upload image” पर क्लिक करे.

img38

फिर एक आप्शन होगा इमेज अपलोड करने का, वह पर “Choose File” पर क्लिक करेगे तो एक बॉक्स ओपन होगा जिसमे अपने कंप्यूटर/लैपटॉप से इमेज सेलेक्ट करनी है, इमेज सेलेक्ट करने के बाद में “Done” पर क्लिक करे दे.

img39

Background image के पास में एक और आप्शन है “Main colour theme”.

img40

जिसमे अपनी थीम का एक कलर decide कर सकते है.

3. Adjust Widths (एडजस्ट विद्थ्स/चौड़ाई)

blog की Width/चौड़ाई को बढ़ाना या कम करना, और साइडबार की भी साइज़ को बदलने के लिए आप्शन है “Adjust widths”.

“Entire Blog” को अगर में कम करता हूँ तो main blog की चौड़ाई कम होती है.

img41

और “Right sidebar” को अगर में बढ़ाऊ तो इस तरह से sidebar की चौड़ाई बढाती है.

img42

अगर पुरे blog को सही सही देखना है तो आउटलाइन पर एरो पर क्लिक करे, टूल वाला पूरा भाग हाईड हो जायगा.

img43

फिर ठीक से blog की Entire blog और Right sidebar width/चौड़ाई को देख सकते है.

img44

4. Layout (लेआउट)

जिस तरह से घर बनाने से पहले नक्शा बनाया जाता है फिर काम को शुरू किया जाता है, ठीक उसी तरह वेबसाइट/blog में भी नक्शा तैयार करना होता है जिसे लेआउट कहते है.

लेआउट एक तरह का वेबसाइट/blog का नक्शा होता है, जब किसी वेब डिज़ाइनर को कोई वेबसाइट बनानी होती है तब वो कोडिंग करने से पहले पेपर पर लेआउट (नक्शा) बनाएगा.

वैसे जब Google blog प्लेटफार्म उपयोग कर रहे है तो वहा पर कोई लेआउट का पेपर वर्क करने की जरुरत नहीं है.

जब आप कोई भी टेम्पलेट अपलोड करते है उसके साथ में लेआउट सेट हो जाता है.

इसके साथ में अगर आप चाहो तो अपने लेआउट में बदलाव भी ला सकते है.

जिसके लिए चोथा आप्शन है “Layout”.

img45

लेआउट के आप्शन में देख सकते है Google blog आपको बहुत तरह के लेआउट प्रोवाइड कर रहा है.

जिसमे 2 तरह के लेआउट है, पहला “Body layout” और दूसरा “Footer layout”.

Footer (फूटर): यह blog/साईट का सबसे निचे वाला भाग होता है.

 blog का लेआउट बदलने से blog का Sidebar, Mainbar, Navbar, Header, Footer आदि की जगह बदलती है.

Mainbar: यह blog का main (मुख्य) भाग होता है, जो बिच में होता है. और इस मुख्य भाग में blog का पोस्ट ही होता है.

Navbar: इसमें blog के पेज लिंक होते है, जैसे Home, About, Contact, Help, Advertise here आदि पुरे को एक नाम से बुलाते है navbar.

लेकिन कई blog अपने blog पर इन सब पेज का लिंक नहीं दे कर navbar में blog की पोपुलर केटेगरी का लिंक देते है.

और यह हैडर का ही एक पार्ट है, navbar हैडर के अदंर ही होता है, हैडर के अन्दर जो 3-5 पेज के लिंक होते है उसे navbar कहते है.

img46

 Header: यह वेबसाइट/blog अक सबसे उपरी हिस्सा होता है जैसे फूटर सबसे निचला हिस्सा होता है.

लेआउट को और आसान तरीके से समझे तो यह एक हैडर, फूटर, साइडबार, mainbar, navbar आदि की लोकेशन सेट करता है/इनकी जगह तय करता है.

और Google blog में पहले से मौजूद कई लेआउट है, जिस पर क्लिक करके सेलेक्ट कर सकते है.

5. Advance (एडवांस)

और अब लास्ट एडवांस आप्शन है, जिसमे main heading, Post Heading, Sub-Heading, Links, Description, या किसी प्रकार का text और इमेज के साथ में एडिट किया जा सकता है जैसा, साइज़, कलर, text को bold, italic या underline करना हो आदि.

img47

तो उदहारण के लिए चलिए में “Blog Title” को सेलेक्ट करते है.

img48

“Blog Title” को सेलेक्ट करने के बाद साइड में मौजूद आप्शन से एडिट कर सकते है.

img49

blog टाइटल में कोई भी बदलाव करोगे तो निचे देख सकते है वो बदलाव लाइव कैसा दिख रहा है, जैसे अभी मैंने blog टाइटल का कलर लाल लिया तो कुछ इस तरह से blog टाइटल दिखेगा.

img50

blog टाइटल की तरह हैडिंग, लिंक, इमेज आदि पर भी इसी तरह एडिट कर सकते है.

तो यह था टेम्पलेट मॉडिफिकेशन, और आखिर में जब पूरा टेम्पलेट एडिट/मॉडिफाई कर दो तो एक बार अपने लाइव प्रीव्यू को अच्छे देख कर फिर इस मॉडिफिकेशन को सेव करने के लिए राईट-कार्नर में “Apply to Blog” पर क्लिक कर दे.

img51

चैप्टर 6: अच्छा पोस्ट लिखे, ताकि लोग उसे पढ़े

आपके blog पर traffic तब तक नहीं आएगा तब जब आपने पोस्ट को अच्छे तरीके से नहीं लिखोगे, एक blog के लिए पोस्ट ही सब कुछ है, अगर पोस्ट अच्छी होगी तो ही traffic आएगा.

Conversational Tune में लिखे (बोर न करे)

अपने कंटेंट को बोरिंग नहीं बनाये. उस कंटेंट को इस तरह से डिजाईन करे जैसे किसी से बात कर रहे है और पढ़ने वाले को लगना चाहिए कि यह पोस्ट वाकई में उसकी मदद कर रहा है.

Conversational tune को कंटेंट में डालने के लिए “आप” और “मैं” शब्द का इस्तेमाल करे, जैसे अपने blog के पोस्ट को पढने वाले को समझा रहे हो तब उन्हें ऐसा लगना चाहिए कि blog, पोस्ट के माध्यम से अपने blog पोस्ट को पढने वालो से बाते कर रहा है.

जहा सवाल पूछने जैसी कंडीशन हो वहा सवाल करे

पोस्ट में सवाल करने से पोस्ट पढ़ने वाले का ध्यान और ज्यादा खिच सकते है, सवाल करने से पोस्ट पढ़ने वाला उसका जवाब जानने के लिए उत्सुक्त होगा.

img52

एक पैराग्राफ को ज्यादा लाइन में नहीं लिखे

एक ही पैराग्राफ में बहुत सारा लिखने से पोस्ट पढ़ने वाला बोर हो सकता है. पोस्ट को खुला सा रखे, इसे भरा हुआ न दिखने दे. इसलिए छोटे-छोटे पैराग्राफ का इस्तेमाल करे.

img053

आसान भाषा में लिखे

जरुरी नहीं है आपके blog पर आने वाला हर इन्सान ग्रेजुएट किया हुआ हो इसलिए बिलकुल आसान भाषा में और आसान तरीके से अपने blog के कंटेंट को लिखे, इसे ज्यादा मुस्किल करने कि कोशिश न करे.

पोस्ट में Sub-heading का इस्तेमाल करे

sub-heading से एक-एक करके पॉइंट को क्लियर करने में आसानी होती है, इससे पोस्ट को पढने में आसानी होती है.

img054

Google blog के पोस्ट एडिटर में sub-heading देने का आप्शन यहाँ है.

img55

bold, italic और underline का इस्तेमाल करे

कोई भी शब्द या लाइन में अगर bold, italic या underline का इस्तेमाल करने से पोस्ट में और जान आ जाती है.

जैसे महत्वपूर्ण शब्द को bold करना, नोट या अलर्ट करने वाली बात को italic करना, और अगर ध्यान देने वाली लाइन है तो उसे underline करना.

img56

बुलेट और नंबर लिस्ट का इस्तेमाल करे

लिस्ट लिखते वक्त बुलेट और नंबर लिस्ट का इस्तेमाल करना चाहिए.

img57

Google blog के पोस्ट एडिटर में बुलेट और लिस्ट नंबर का इस्तेमाल आसानी से किया जा सकता है.

img61

ग्रामर अच्छी रखे

अगर आपकी ग्रामर कमजोर है तो आपका पोस्ट बिलकुल प्रोफेशनल नहीं लगेगा.

यहाँ तक की कुछ पोस्ट पढने वाले आपकी कमजोर ग्रामर को देख कर blog से हट भी सकते है. इससे आपके blog का लेवल गिरता है.

इसके लिए पूरा पोस्ट को लिख देने के बाद में डायरेक्ट उसे पब्लिश न करे, एक बार फिर से उस पोस्ट को पढ़े.

जब पोस्ट पूरी तैयार ओ जाये तो उसे पब्लिश कर दे.

चैप्टर 7: डोमेन

अब आखिरी चैप्टर आता है आपके blog के लिए डोमेन नेम ले, क्योंकि जब हम Google Blogger पर blog करते है तब हमारे blog का एड्रेस में [dot]blogspot होता है जैसे: abcd.blogpost.com

इस में से डोमेन हटाना जरुरी है अगर आप अपने blog को आगे तक लेकर जाना चाहते है.

वैसे तो अगर आप शुरुआत में सिखने के लिए blogging को 1-2 महीने ऐसे ही दे रहे है अभी आप blogging को प्रोफेशनल तरीके से नहीं कर रहे है तो abcd.blogpsot एड्रेस रखने में कोई दिक्कत नहीं है.

मैंने अपने लाइफ में ऐसे भी blog देखे है जो बहुत फेमस और बेहतरीन blog है और कई सालो से चल रहे है पर आज भी उनके blog पर डोमेन नहीं है वो blog abcd.blogpsot एड्रेस पर चल रहे है जैसे:

blogger-hints-and-tips.blogspot.com

roshansavera.blogspot.in

googleblog.blogspot.com

althouse.blogspot.com

sbynews.blogspot.com

पर मेरी सलाह अपने blog को बिना डोमेन से चलाने की नहीं है, अगर आप अपने blog से बिज़नस करना चाहते है और पैसा कमाना चाहते है तो जाहिर है आपको डोमेन कि जरुरत पड़ेगी क्योंकि blogspot वाले एड्रेस लोगो को याद नहीं होते है, प्रोफेशनल नहीं लगता है और यह Google सर्च इंजन रैंकिंग के लिए भी अच्छा नहीं है.

तो चलिए अब एक डोमेन लेते है.

Domain name छोटा ले

डोमेन हमेशा छोटा ही ले, जो लोगो को जल्दी याद रहे. क्योंकि आपको कई बार अपने blog के बारे में स्कूल, कॉलेज और कंपनी में भी बताना पढ़ सकता है, जिससे अगर डोमेन बड़ा होता है तो आगे वाले को आपकी वेबसाइट खोलने में दिक्कत होगी.

पर इसका मतलब यह भी नहीं कि आप एकदम छोटा डोमेन ही ले, क्योंकि आज के वक्त में छोटे डोमेन मिलते नहीं है, जिसकी वजह से आपको अपने डोमेन में यूनिक नाम रखना होता है.

.com ही ले

डोमेन तो वैसे कई तरह के ले सकते है कोई दिक्कत नहीं है, पर [dot]com डोमेन सबको याद जल्दी रहता है. और मोबाइल यूजर के कीबोर्ड में भी [dot]com डोमेन ही आता है यानी [dot]com डोमेन लोगो के लिए ज्यादा फ्रेंडली है और हर बड़ी कंपनी कि साईट भी [dot]com डोमेन पर ही होती है.

पर याद रहे, अगर आपकी वेबसाइट हिंदी में है, तब [dot]in लेना कोई बुराई नहीं है. क्योंकि [dot]in India कंट्री की वेबसाइट पर होता है.

करैक्टर/अक्षर ही ले

यानी अपने डोमेन नेम में इंग्लिश वर्ड ही ले, कई बार अपने डोमेन नाम में डिजिट/नंबर देखे होगे जैसे: addicted2success.com में 2 नंबर इस्तेमाल हुआ है.

यह लोगो को अपना डोमेन बताते वक्त दिक्कत होती है, इस तरह से आप लोगो को कंफ्यूज कर डोंगे कि नंबर है या करैक्टर.

Domain suggestion ले

online डोमेन suggestion ले जिससे आपको अपने डोमेन को लेने में काफी मदद होगी.

www.domainsbot.com पर जाये, और जो आप डोमेन लेना चाहते है वो इसमें डाले अगर वह डोमेन मिल रहा है तो यह बता देगा नहीं तो यह उससे मिलते हुए और भी काफी अच्छे डोमेन बताएगा.

img93

Godaddy से डोमेन कैसे ले

अपना डोमेन सोच लेने के बाद अब वक्त आता है उसे खरीदने का. सबसे पहले Godaddy.com पर जाये, और डोमेन सर्च बॉक्स में अपना डोमेन नाम टाइप करे फिर सर्च डोमेन पर क्लिक करे.

img66

अगर डोमेन अवेलेबल है तो यह स्क्रीन आएगी, आपको “Continue to Cart” पर क्लिक करना है.

img67

“Continue to Cart” पर क्लिक करने के बाद में नेक्स्ट स्क्रीन यह प्रदशित होगी, जिमसे Godaddy डोमेन के साथ में होस्टिंग, ईमेल सर्विस आदि खरीदने कि भी सलाह देता है, जबकि हमने Google blogger प्लेटफार्म पर blog सेटअप किया है जहा हमें होस्टिंग कि परवा करना कि कोई जरुरत नहीं है वो एक Google कि होस्टिंग है.

img68

तो फिर हमें स्क्रॉल करके पेज के निचे कि तरफ जाकर “Continue to Cart” पर क्लिक करना है.

img69

फिर यह स्क्रीन आएगी जिसमे आपको चेकआउट करना है.

img70

चेकआउट करने से पहले ध्यान दे अगर आप अपने डोमेन कि सर्विस का चार्ज 1 साल का ही करना चाहते है तो इसे 1 साल का करदे वरना यह 2 साल का पयेमेंट जोड़ कर लेता है.

तो इसे पहले एक साल का कर दे.

img71

फिर यहाँ देख सकते है अब 611 RS/- टोटल पेमेंट ही आपको करना है जो एक साल का है, फिर “Process to Checkout” पर क्लिक करे.

img72

जाहिर ही बात है आपका Godaddy पर अकाउंट नहीं होगा, तो अगर Godaddy पर अकाउंट नहीं है तो New Customer वाले सेक्शन में “Continue” बटन पर क्लिक करे, अगर अकाउंट है तो “Returning Customer” में अपनी ID डाले.

img73

अब आपको Godaddy में अकाउंट बनाने के लिए अपनी सारी इनफार्मेशन डालनी है, इस एक ही पेज में तीन फॉर्म आपको फिल करने है.

Billing Information, Account Information और Payment Information.

पहले Billing Information और Account Information का फॉर्म भरे.

img74

और फिर आप जिस तरीके से पेमेंट कर सके उसमे पेमेंट कर दे जसे क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड, नेट बैंकिंग आदि फिर सब फॉर्म भरने के बाद “Continue” पर क्लिक कर दे.

img75

फिर आखिर में आप एक बार फिर अपनी बिलिंग और पेमेंट इनफार्मेशन देख ले, अपना आर्डर देख ले उसके बाद “Place Your Order” पर क्लिक कर दे.

img76

Congratulation..!! अपने डोमेन नेम खरीद लिया है, फिर आपके सामने एक Thank You पेज ओपन होगा.

img77

Godaddy डोमेन Google blogger प्लेटफार्म पर जोड़े

अब आपके पास में एक पूरा सेटअप किया हुआ blog है, और एक डोमेन है.

अब एक आखिरी काम बचा है वो है डोमेन को अपने blog के साथ में जोड़ना.

सबसे पहले blogger.com पर जाये, और अपने blog का डैशबोर्ड ओपन करे.

image94

फिर “Basic setting” में जाकर, “Set up a third-party URL for your blog” पर क्लिक करे.

img79

इस बॉक्स में www के साथ में अपना डोमेन लिखे जो आप blog के साथ जोड़ना चाहते हो (www के साथ जरुर लगाये जैसे www.mohammadshakeel.com).

“Save” बटन पर क्लिक करे.

img80

आपके सामने कुछ इस तरह से डाटा दिखेगे, इसमें 2 CNAME है जिन्हें आपको अपने Godaddy के होस्टिंग अकाउंट में डालने है और आपका काम यहाँ तक हो जाएगा.

img81

तो इन CNAME को बादमे कॉपी करने कि जरुरत होगी, तो इसके लिए यह तब ओपन ही रखे और नई tab में Godaddy का अकाउंट खोले.

अपना अकाउंट Sign in करे.

img82

Account sign in करने के बाद, domain वाले सबसे पहले आप्शन में Manage पर क्लिक करे.

img83

फिर आपके सामने वो सब डोमेन प्रदशित होगे जो अप्कने अपने अकाउंट में ख़रीदे है.

  1. पहले List view करे.
  2. अपने डोमेन पर क्लिक करे.

img84

DNS Zone File पर क्लिक करे, फिर Add Record पर क्लिक करे.

img85

अब एक पॉपअप विंडो खुलेगी.

  1. “CNAME (Alias)” सेलेक्ट करे
  2. “Host” में www डाले
  3. “Points to” में ghs.google.com डाले
  4. “TTL” को one hour ही रहने दे
  5. और “Add Another” पर क्लिक करे.

img86

यह था पहला CNAME जो अभी Google Blogger blog के सामान होते है.

अपनी पहले वाली tab पर जाये देखे वहा पर यही CNAME डालने को कहा गया है.

img87

इसके निचे दूसरी CNAME है, उसे भी इसी तरह लगनी है.

सेकंड CNAME आपको Google blogger में ही मिलेगा, वही tab फिर से ओपन करे. और पहले वाले को कॉपी करके “Host” में paste करे और दुसरे वाले को “Points to” में.

img88

इस तरह सेकंड CNAME को लगा कर “Finish” पर क्लिक कर दे.

img89

आपके सामने एक मेसेज आएगा, जहा “Save Change” पर क्लिक करना है.

img92

अपने Google blogger प्लेटफार्म पर जाकर इसे Save पर क्लिक करके जोड़ दे.

img90

जो फिर कुछ इस तरह दिखेगा.

img91

अब आपका डोमेन अपने blog से जुड़ गया है.

अब आपका यह blog आपके domain से खुलेगा, कई बार time भी लग सकता है, DNS कि setting को अपडेट होने में 24 घंटे का time लगता है, अगर इससे ज्यादा लगता है तो जरुर अपने CNAME डालने में कोई गलती कि होगी.

The End

तो यह था मेरा जवाब उन सब लोगो को जो मुझे अक्सर blogging में करियर बनाने के बारे में पूछते रहते थे, जैसा कि मैंने ऊपर भी लिखा था कि अगर आपको कोई भी समस्या है तो कमेंट करे, मैं आपको आपकी ईमेल ID पर पर्सनल ईमेल सेंड करके रिप्लाई करुगा जो मैंने केवल इस पॉट के लिए ही जारी रखा है.

अगर आपकी कोई समस्या नहीं है तब चाहो तो अपनी राहे, या यह पोस्ट आपको कैसा लगा उसके बारे में भी कमेंट कर सकते है.

Story behind this article (आर्टिकल को लिखने में मेहनत)

वैसे मुझे इस कम्पलीट गाइड को लिखने में 7 दिन स भी ज्यादा लगे है, और हर स्क्रीन शॉट (इमेज) मैंने फोटोशोप में बनाई है आपको समझने के लिए. सच माइने में मैंने कोई डोमेन नहीं ख़रीदा पर ये आपको समझाने के लिए मैंने स्क्रीन शॉट तैयार किये. मुझे एक नकली स्क्रीन शॉट बनाने में कम से कम एवरेज 10 मिनट लगे है क्योंकि मुझे कई बार कोडिंग से पेज बना कर भी स्क्रीन शॉट लेना पड़ा है.

इस बड़े से पोस्ट को मैंने खुद 3-4 पढ़ा है, जिसमे मुझे केवल पढने में और गलतिय निकालने में 5 घंटे से भी ज्यादा लगे.

यह पोस्ट 6,300 वर्ड में लिखी गई है, मैंने अपनी लाइफ में आज तक किसी भी blog पर इतनी बड़ी पोस्ट नहीं देखी सायद आप भी पहली बार देख रहे है.

HindiSpot पर आज मैंने कई 6-7 महीने बाद यह पोस्ट मैंने खुद लिखी है, इससे पहले सब पोस्ट HindiSpot को चाहने वालो ने लिखी है जिन सब का मैं धन्यवाद करता हूँ.

मैंने बिच में कुछ मदद (10%) इंग्लिश आर्टिकल पढ़ कर भी ली है, जो तक़रीबन हर प्रोफेशनल blogger एक बार दुसरे आर्टिकल पढ़ के आईडिया लेता ही है.

आपको बहुत-बहुत धन्यवाद करता हूँ, आपने इस पोस्ट को पढ़ी है अपना कीमती समय दिया है, अच्छा होगा अगर इस पोस्ट को अपने ब्राउज़र में बुकमार्क कर ले ताकि ये आपके भविष्य में भी काम आये.

मेरी दुआ आपके साथ है अपनी blogging का करियर अच्छे से शुरू करे.

Happy Blogging..!! 🙂

20 Comments

  1. manu March 26, 2017
  2. Rohtash Nimi February 5, 2017
  3. anand sarraf January 7, 2017
  4. sunil marathe October 15, 2016
  5. pankaj kumar October 3, 2016
    • Mohammad Shakeel October 5, 2016
  6. sameer jaiswal August 10, 2016
  7. hemant meena July 26, 2016
    • Mohammad Shakeel July 26, 2016
  8. hemant meena July 26, 2016
    • Mohammad Shakeel July 26, 2016
  9. Palak Sharma July 20, 2016
  10. ANIL KUMAR July 9, 2016
    • Mohammad Shakeel July 10, 2016
  11. Pawan July 8, 2016

Leave a Reply